रायबरेली में गांधी परिवार की रिटायरमेंट: क्या कांग्रेस की यूपी में स्थिति जीरो पर होगी?

“गांधी परिवार की चुनाव तकनीक: क्या अमेठी और रायबरेली सीटों पर होगा विरोध?”

19 मार्च 2024

कांग्रेस और समाजवादी पार्टी (सपा) के बीच उत्तर प्रदेश में गठबंधन की घोषणा ने राजनीतिक मैदान में एक बड़ी चर्चा को जन्म दिया है। इस गठबंधन का मुख्य उद्देश्य बीजेपी के खिलाफ मिलकर चुनाव लड़ना है। अमेठी और रायबरेली की सीटों को बचाने के लिए कांग्रेस ने समझौता किया है, जिसमें 17 सीटों पर सपा के साथ समझौता किया गया है। इसके बाद से उम्मीदवारों का चयन करने के लिए वार्ता जारी है, लेकिन अब तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है, जबकि चुनाव की घोषणा हो चुकी है।

25 साल पहले सोनिया गांधी ने अमेठी से सांसद के रूप में चुनाव लड़ा था, लेकिन इस बार उन्हें चुनावी मैदान में नहीं देखा जाएगा। रायबरेली और अमेठी सीट से गांधी परिवार के चुनाव लड़ने पर सस्पेंस बना हुआ है। यदि गांधी परिवार इस बार अमेठी और रायबरेली से चुनाव नहीं लड़ता है, तो कांग्रेस को यूपी में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है।

कांग्रेस ने सपा के साथ गठबंधन करने के बावजूद भी अपनी स्थिति को मजबूत नहीं बनाया है। कांग्रेस की 17 सीटों में से कुछ ऐसी हैं, जहां पार्टी ने बहुत समय से जीत नहीं पा रही है। इससे कांग्रेस की चुनावी रणनीति में संदेह और चुनौती का सामना है।

कांग्रेस की सबसे मजबूत सीटों में रायबरेली और अमेठी शामिल हैं, लेकिन इस बार गांधी परिवार अपने परंपरागत सीटों से चुनाव नहीं लड़ रहा है। यह चुनौती कांग्रेस के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि अमेठी और रायबरेली के स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने बीजेपी के पक्ष में जाकर काफी प्रभाव बनाया है। इससे कांग्रेस के लिए चुनौती का सामना है।

इस गठबंधन के बावजूद, कांग्रेस के लिए यूपी में चुनौती से निपटना मुश्किल हो सकता है। कांग्रेस को उत्तर प्रदेश में अपनी जमीन को मजबूत करने के लिए सकारात्मक कदम उठाने की आवश्यकता है ताकि वह चुनाव में प्रभावी रूप से उत्तर सके।

bureau jabalpurpatrika

Related Posts

पश्चिम बंगाल : भाजपा की केंद्रीय टीम ने चुनाव के बाद हुई हिंसा के पीड़ितों से मुलाकात की, रविशंकर ने ममता सरकार को घेरा

18 Jun 2024, रविशंकर प्रसाद ने बताया कि यह गांव अब शांत है। यहां कोई भी नहीं है। यह वह जगह थी, जहां भाजपा कार्यकर्ता आकर बैठते थे। लेकिन अब…

Read more

Andhra: लोकसभा और विधानसभा चुनावों में भारी हार के बाद जगन मोहन रेड्डी ने EVM पर नाराजगी जाहिर की, और मतपत्रों के उपयोग पर जोर दिया।

18 Jun 2024, YSRCP के नेता जगन मोहन रेड्डी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट करते हुए कहा कि दुनिया के लगभग सभी उन्नत लोकतंत्रों में चुनावों में ईवीएम…

Read more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्म

अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में होंगे शामिल

रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में  होंगे शामिल

बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात

महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात