राजर्षि मोदी जी ने दुनिया का सबसे बड़ा श्रीयंत्र मोदीपुर, रामपुर में स्थापित किया है, इसका अनुष्ठान और पूजा स्वामी श्री सर्वानंद सरस्वती जी द्वारा किया गया था

मोदीपुर सनसिटी 2000 करोड़ के निवेश के साथ ग्लोबल हब के रूप में उभरेगी

मोदीपुर,रामपुर, 23 नवंबर

नवप्रवर्तन और समृद्धि के प्रतीक राजर्षि मोदी ग्रुप ने पूज्य मां दयावती मोदी जी की 108वीं जयंती के शुभ अवसर को एक परिवर्तनकारी उत्सव के साथ मनाया। इस अवसर पर पूज्य द्वारिका पीठ के शंकराचार्य स्वामी श्री सर्वानंद जी सरस्वती जी द्वारा 7 दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया गया। राजर्षि मोदी (डॉ. बी. के. मोदी) के सानिध्य में भजन संध्या के दौरान प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा मधुर भजनों और शास्त्रीय प्रस्तुतियों से शामें जीवंत हो उठीं, जिससे सांस्कृतिक समृद्धि और आध्यात्मिक ज्ञान का सामंजस्यपूर्ण मिश्रण तैयार हुआ।

राजर्षि मोदी ने मोदीपुर , रामपुर के विकास के लिए निर्धारित 2000 करोड़ के चौंका देने वाले निवेश का खुलासा किया। उन्होंने कहा, “इस महत्वाकांक्षी पहल का लक्ष्य मोदीपुर को एक वैश्विक स्मार्ट शहर में बदलना है, जिसमें एक विश्व स्तरीय मल्टी-स्क्रीन थिएटर, एक शानदार रिसॉर्ट, एक अत्याधुनिक विश्वविद्यालय और अत्याधुनिक उद्योग शामिल हों।”
राजर्षि मोदी ने स्वामी श्री सर्वानंद
सरवती जी द्वारा आयोजित पवित्र अनुष्ठानों और पूजा के साथ मोदीपुर में दुनिया के सबसे बड़े श्रीयंत्र का अनावरण किया। इसके अलावा, एक भव्य सूर्य मंदिर मोदीपुर की शोभा बढ़ाने के लिए तैयार है।

राजर्षि मोदी ग्रुप ने शिवानी श्रीवास्तव को मोदीपुर सनसिटी का सीईओ बनाया है। उन्हें शहर के विकास को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी सौंपी गई। आध्यात्मिक मार्गदर्शन के महत्व को स्वीकार करते हुए आचार्य धर्मवीर जी को राजर्षि मोदी ग्रुप का राज पुरोहित घोषित किया गया।

यह दूरदर्शी विस्तार न केवल समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक है बल्कि मोदीपुर सनसिटी को एक ऐसे भविष्य की ओर भी ले जाता है जहां परंपरा और नवाचार एक साथ आते हैं, जिससे प्रगति और आध्यात्मिकता के लिए स्वर्ग बनता है।

  • Suditi Raje

    Related Posts

    अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

    अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का निधन हो गया। 86 वर्षीय लक्ष्मीकांत दीक्षित लंबे समय से गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। वह वाराणसी…

    Read more

    रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में होंगे शामिल

    15 मई 2024 , नई दिल्ली रामचरित मानस, पंचतंत्र और सह्रदयलोक-लोकन को यूनाइटेड नेशंस एजुकेशनल, साइंटिफिक एंड कल्चरल ऑर्गेनाइजेशन (UNESCO) ने वैश्विक मान्यता दी है। इन लेखों को मेमोरी ऑफ…

    Read more

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    धर्म

    अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

    अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

    रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में होंगे शामिल

    रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में  होंगे शामिल

    बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

    बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

    सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

    सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

    बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

    बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

    महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात

    महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात