बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

पंचशूल: लंका की सुरक्षा का रहस्यमय कवच

08 मार्च 2024, देवघर

महाशिवरात्रि के आगमन से पहले देवघर में स्थित बाबा बैद्यनाथ मंदिर में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। इस कार्यक्रम के दौरान, मंदिर के शिखर पर स्थित शिव और पार्वती मंदिर के पंचशूल को उतारकर उसकी साफ़-सफ़ाई की जाती है। इसके बाद, दूसरे दिन विधिवत पंचशूल की पूजा-अर्चना की जाती है और फिर उसे मंदिर के शिखर पर स्थापित किया जाता है। इस विशेष परंपरा के अनुसार, मंदिर के शिखर पर स्थित पंचशूल को नीचे उतारा जाता है और फिर उसकी पूजा की जाती है। बुधवार को जब देवघर के बाबा मंदिर से पंचशूल को उतारा गया, तो उसे स्पर्श करने के लिए मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। पंचशूल की साफ सफाई के बाद गुरुवार को विधिवत पूजा के बाद दोनों मंदिरों पर चढ़ाई गई। मंदिर से पंचशूल को उतारने के समय, मंदिर में गठबंधन पूजा बंद रही।

बाबा बैद्यनाथ मंदिर देवघर के शिखर पर स्थित पंचशूल की महत्वपूर्ण विशेषता है। मंदिर की इस अनोखी विशेषता में यह भी शामिल है कि इसके शिखर पर त्रिशूल नहीं, बल्कि पंचशूल स्थापित हैं। इसे मंदिर का सुरक्षा कवच माना जाता है। देश में सिर्फ देवघर मंदिर के शिखर पर ही पंचशूल होने का दावा किया जाता है। वैद्यनाथ धाम का यह पंचशूल रहस्यों से भरा है।

मान्यता है कि बाबा के मंदिर की शिखर पर स्थित पंचशूल मानव को अजेय शक्ति प्रदान करता है। धर्माचार्यों के अलग-अलग विचार हो सकते हैं, लेकिन सभी सहमत हैं कि पंचशूल का इतिहास और महत्व त्रेत्रा युग के लंका के राजा रावण से जुड़ा है। रावण ने मंदिर की सुरक्षा के लिए शिखर पर पंचशूल का सुरक्षा कवच लगाया था। इस वजह से आज तक किसी भी प्राकृतिक आपदा का मंदिर पर असर नहीं होता। लंका की सुरक्षा के लिए भी रावण ने चारों द्वार पर पंचशूल का सुरक्षा कवच स्थापित किया था।

Suditi Raje

Related Posts

अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का निधन हो गया। 86 वर्षीय लक्ष्मीकांत दीक्षित लंबे समय से गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। वह वाराणसी…

Read more

चौथा राष्ट्रीय अटल अवार्ड: विभिन्न क्षेत्रों में अनुकरणीय योगदान के लिए उत्कृष्टता को किया गया सम्मानित

भाजपा के वरिष्ठ नेता और हिमाचल प्रदेश के प्रभारी, अभिनाश राय खन्ना बतौर मुख्यातिथि उपस्थित हुए। 37 लोगों को दिया गया यह सम्मान नई दिल्ली, 21 जून, 2024: दिल्ली में…

Read more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्म

अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में होंगे शामिल

रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में  होंगे शामिल

बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात

महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात