कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, MP के प्रमुख नेता ने पार्टी छोड़ी

सुरेश पचौरी: कांग्रेस के प्रमुख नेताओं में शामिल, उन्हें गांधी परिवार के करीबी माना जाता है।

09 मार्च 2024

दोनों दल की चुनौती में एक नया मोड़ आया है, जब एक तरफ कांग्रेस आगामी लोकसभा चुनाव में सभी विपक्षी दलों को एकजुट कर बीजेपी को शिकस्त देने की तैयारी कर रही है, तो दूसरी तरफ पार्टी के अपने ही नेता उसका साथ छोड़ रहे हैं। महाराष्ट्र में मिलिंद देवड़ा, बाबा सिद्दीकी, अशोक चव्हाण के पार्टी से इस्तीफा देने के बाद अब मध्यप्रदेश से कांग्रेस को तगड़ा झटका लगा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुरेश पचौरी ने पार्टी से अलग होकर बीजेपी का दामन थाम लिया है। जानकारी के मुताबिक, सुरेश पचौरी शनिवार 9 मार्च को बीजेपी में शामिल हुए। राजधानी भोपाल में उन्होंने पार्टी की सदस्यता ली। इस दौरान सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत किया। बताया जा रहा है कि पचौरी के साथ ही कांग्रेस के कई बड़े नेताओं ने बीजेपी का दामन थाम लिया है। इनमें अतुल शर्मा, कैलाश मिश्रा पूर्व जिला अध्यक्ष कांग्रेस, संजय शुक्ला, विशाल पटेल समेत तमाम बड़े नेता शामिल हैं। ये सभी सुरेश पचौरी के समर्थक माने जाते हैं।

बीजेपी में शामिल होने के बाद सुरेश पचौरी ने कहा कि जब वो राजनीति में आए थे तब उनका उद्देश्य समाज सेवा और राष्ट्र सेवा था। उन्होंने कहा कि आजाद भारत में कांग्रेस की ये परंपरा रही कि हम एक कास्ट लेस (वर्ग विहीन) समाज की स्थापना करेंगे। एक नारा भी लगा था न जात पर न बाप पर, लेकिन आज वो नारा दरकिनार हो गया है। पार्टी आज जाति के आधार पर बात कर रही है।

सुरेश पचौरी को कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार रहा है। वे चार बार राज्यसभा सांसद और केंद्र में मंत्री के साथ ही प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं। उन्हें गांधी परिवार का बेहद करीबी माना जाता है। सुरेश पचौरी ने 1972 में कांग्रेस के एक कार्यकर्ता के रूप में अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत की थी। 1984 में वे राज्य युवा कांग्रेस अध्यक्ष बने। पीवी नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह की सरकारों में वे मंत्री भी रहे। इस दौरान उन्होंने कई विभागों की जिम्मेदारी संभाली।

दिलचस्प बात यह है कि सुरेश पचौरी ने आज तक कोई चुनाव नहीं जीता, इसके बावजूद उनकी गिनती कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में होती है। उन्होंने अपने राजनीतिक करियर में सिर्फ दो बार चुनाव लड़ा। 1999 में हुए लोकसभा चुनाव में उन्होंने भोपाल से चुनाव लड़ा था, जहां उनका मुकाबला बीजेपी की तेजतर्रार नेता उमा भारती से था। इस चुनाव में सुरेश पचौरी को करीब 1.6 लाख से ज्यादा वोटों से करारी शिकस्त मिली थी। वहीं 2013 के विधानसभा चुनाव में भोजपुर से चुनाव लड़े, जहां उनका मुकाबला सुरेंद्र पटवा से था। इस चुनाव में भी सुरेश पचौरी को हार का सामना करना पड़ा।

उनके राजनीतिक सफर के दौरान, सुरेश पचौरी 1984 में पहली बार राज्यसभा के लिए चुने गए और 1990, 1996, और 2002 में फिर से राज्यसभा भेजे गए। वे रक्षा, कार्मिक, सार्वजनिक शिकायत और पेंशन, और संसदीय मामलों के राज्यमंत्री भी रहे। 2008 से 2011 तक, पचौरी मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में सुरेश पचौरी लोकसभा चुनाव के प्रभारी भी बनाए गए थे। वहीं, 2023 के चुनाव में स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य भी रहे हैं।

इस स्थिति में, सुरेश पचौरी का पार्टी से अलग होना कांग्रेस के लिए एक बड़ा झटका है। लोकसभा चुनाव सिर पर हैं और पार्टी अपनी खोई हुई साख को दोबारा से वापस पाने की पुरजोर कोशिश कर रही है। इसके उलट, पार्टी के अपने ही नेता उसका साथ छोड़ रहे हैं। ऐसे में, पार्टी नेतृत्व के सामने अपने नेताओं को साथ रखना एक बड़ी चुनौती है।

Suditi Raje

Related Posts

चौथा राष्ट्रीय अटल अवार्ड: विभिन्न क्षेत्रों में अनुकरणीय योगदान के लिए उत्कृष्टता को किया गया सम्मानित

भाजपा के वरिष्ठ नेता और हिमाचल प्रदेश के प्रभारी, अभिनाश राय खन्ना बतौर मुख्यातिथि उपस्थित हुए। 37 लोगों को दिया गया यह सम्मान नई दिल्ली, 21 जून, 2024: दिल्ली में…

Read more

तेलंगाना के 11 से 16 वर्ष के चार युवा एडवेंचरर्स ने हासिल की नई ऊंचाईयां

विनर्स एंड अचीवर्स ने आयोजित किया इन युवाओं के लिए एडवेंचरर्स कैंप नई दिल्ली, – 19 June, 2024: प्रसिद्ध पर्वतारोही सत्यरूप सिद्धांत की एडवेंचर कंपनी विनर्स एंड अचीवर्स और रांची…

Read more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्म

अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में होंगे शामिल

रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में  होंगे शामिल

बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात

महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात