कच्ची घानी तेल: पंजाब में आगामी उत्सवों के बीच घरों तक गुणवत्ता वाली पहुंच करेगा सुनिश्चित

ढाबों से लेकर घरों तक हाथी ब्रांड कच्ची घानी तेल जीत रहा लोगों का भरोसा

09 नवंबर, 2023:

पंजाब में त्योहारी सीजन की शुरुआत जैसे-जैसे हो रही है, हाथी मस्टर्ड ऑयल, जो विश्वास, पवित्रता और परंपरा का पर्याय है, इस खुशी के समय के सार को समाहित करने वाली पेशकशों की एक नई श्रृंखला पेश करने पर गर्व करता है। देखभाल और सटीकता से तैयार किया गया, यह पारंपरिक कोल्ड-प्रेस्ड सरसों का तेल अपने साथ पीढ़ियों की विरासत और बिना समझौते के गुणवत्ता का वादा करता है।

हाथी मस्टर्ड ऑयल के अध्यक्ष राघव भगत ने पंजाब में आगामी त्योहारी सीजन के लिए अपना उत्साह व्यक्त किया और कहा, “हाथी मस्टर्ड ऑयल में, हमारा मिशन हमेशा अपने ग्राहकों को बेहतरीन और सबसे प्रामाणिक उत्पाद प्रदान करना रहा है, खासकर इस त्योहारी सीजन के दौरान इसे हर किसी की जीवनशैली का हिस्सा बनाना हमारा मकसद है। इस त्योहारी सीजन में हम आपके प्रियजनों को शुद्धता और स्वास्थ्य का उपहार देने के लिए एक संग्रह की पेशकश कर रहे हैं।”

लुधियाना के एक ढाबा मालिक कुलदीप सिंह ने कहा, “पंजाब में, हम अपनी पाक परंपराओं पर गर्व करते हैं और हाथी ब्रांड कच्ची घानी तेल वर्षों से रसोई में हमारा भरोसेमंद साथी रहा है। यह हमारे मुंह में पानी लाने वाले व्यंजन के समृद्ध स्वाद के पीछे का एक रहस्य है।”

अमृतसर की एक गृहणी सिमरन कौर ने कहा, “हमारे परिवार में, हाथी ब्रांड कच्ची घानी तेल हमारे खाना पकाने में एक घटक से कहीं अधिक है। यह परंपरा और पवित्रता का प्रतीक है। हम इसका उपयोग अपने दिवाली समारोहों के दौरान दीये जलाने के लिए करते हैं। और यह हमारी प्रार्थनाओं में एक विशेष स्पर्श जोड़ता है। यह हमारे उत्सव अनुष्ठानों का एक अनिवार्य हिस्सा है।”

कच्ची घानी तेल के स्वास्थ्य लाभ:

पोषक तत्वों से भरपूर एमयूएफए स्रोत

कच्ची घानी सरसों का तेल मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (एमयूएफए) का एक शक्तिशाली स्रोत है, जो पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड के दायरे में एक महत्वपूर्ण घटक है। ये फैटी एसिड पॉलीअनसेचुरेटेड और संतृप्त वसा के बीच एक विशिष्ट अनुपात का पालन करके समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

हृदय स्वास्थ्य लाभ

अपने आहार में सरसों के तेल को शामिल करने से हृदय स्वास्थ्य के कई प्रकार के लाभ हो सकते हैं, जो वैज्ञानिक अनुसंधान द्वारा प्रमाणित है। बेहतरीन कच्ची घानी सरसों का तेल मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (एमयूएफए) के प्रचुर भंडार के रूप में कार्य करता है, जो एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने, रक्त में वसा के स्तर को प्रबंधित करने और रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देने में सहायक है।

इसके अलावा, इस कच्ची घानी तेल में अल्फा-लिनोलेनिक एसिड की प्रचुर मात्रा होती है, जिसे इस्केमिक हृदय रोग के कम जोखिम से जोड़ा जाता है। सरसों के तेल के नियमित सेवन से हृदय स्वास्थ्य में काफी सुधार हो सकता है और हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा कम हो सकता है।

बढ़ा हुआ रक्त संचार

आयुर्वेदिक सिद्धांतों के अनुसार सरसों के तेल से मालिश करने से रक्त परिसंचरण में उल्लेखनीय वृद्धि हो सकती है, त्वचा में निखार आ सकता है और मांसपेशियों का तनाव कम हो सकता है। पसीने की ग्रंथियों को उत्तेजित करके सरसों का तेल शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में सहायता करता है, जिससे यह एक प्राकृतिक डिटॉक्सीफायर बन जाता है।

भारत में सर्वोत्तम कच्ची घानी सरसों के तेल का उपयोग करने की प्रतिष्ठित परंपरा सदियों से चली आ रही है, जिसे समग्र कल्याण के लिए एक प्रभावी दृष्टिकोण के रूप में जाना जाता है। अपने स्व-देखभाल आहार में शामिलला करके कच्ची घानी तेल के कई गुना लाभ ले सकते हैं, जिससे आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों को लाभ होगा।

डाइजेस्टिव वेलनेस

कच्ची घानी सरसों का तेल पाचन को बढ़ावा देने और समग्र आंत स्वास्थ्य को बढ़ाने की अपनी क्षमता के लिए भी प्रसिद्ध है। इसका मुख्य कारण महत्वपूर्ण पाचक रसों का स्राव है, जो पोषक तत्वों के टूटने और अवशोषण के लिए आवश्यक हैं। कच्ची घानी सरसों के तेल के भीतर सक्रिय यौगिकों में से एक, एलिल आइसोथियोसाइनेट, अग्न्याशय में पाचन एंजाइमों के उत्पादन को उत्तेजित करने के लिए प्रदर्शित किया गया है। ये एंजाइम कार्बोहाइड्रेट, वसा और प्रोटीन को अधिक आसानी से अवशोषित होने वाले अणुओं में तोड़ने में अपरिहार्य भूमिका निभाते हैं।

इम्युनिटी बूस्ट

कच्ची घानी सरसों के तेल का उपयोग लंबे समय से इसके प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले गुणों के लिए किया जाता रहा है। इस तेल में विटामिन ई और एंटीऑक्सीडेंट का उच्च स्तर होता है, जो एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने में महत्वपूर्ण है। विटामिन ई, एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट, हानिकारक मुक्त कणों के खिलाफ ढाल के रूप में कार्य करता है। इस उच्च गुणवत्ता वाले सरसों के तेल को शामिल करके, आप अपने शरीर को कैंसर जैसी हानिकारक बीमारी से बचाते हुए मजबूत बना सकते हैं।

  • Suditi Raje

    Related Posts

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शिक्षाविद मनोज शर्मा हुए शामिल

    नई दिल्ली, 10 जून 2024: पीआर गुरु के संस्थापक और शिक्षाविद मनोज शर्मा को रविवार राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का सम्मान…

    Read more

    प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवनीत चतुर्वेदी

    नई दिल्ली, 9 जून, 2024: जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवनीत चतुर्वेदी रविवार ने नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लिया। हाल ही…

    Read more

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    धर्म

    रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में होंगे शामिल

    रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में  होंगे शामिल

    बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

    बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

    सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

    सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

    बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

    बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

    महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात

    महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात

    महाशिवरात्रि के पावन दिन पर उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में भक्तों की भीड़

    महाशिवरात्रि के पावन दिन पर उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में भक्तों की भीड़