एआईसीटीई की पहल से छात्राओं और दिव्यांगों के लिए खुले रोजगार के द्वार

दिव्यांग छात्र, छात्राओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए दी जाएगी ट्रेनिंग

देशभर के इंजीनियरिंग कॉलेजों की छात्राओं को 37 घंटे का विशेष प्रशिक्षण भी कराया जाएगा

आईआईटी और आईआईएम की मदद से भविष्य की जरूरत और चुनौतियों के अनुसार तैयार होंगे शिक्षक

नई दिल्ली, 16 नवंबर: देशभर के संस्थानों में तकनीकी शिक्षा ले रह छात्र-छात्राओं के लिए नौकरी पाना अब और आसान हो जाएगा। इसके लिए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने हैदराबाद के यूथ फॉर जॉब्स फाउंडेशन, अमेजन डेवलपमेंट सेंटर (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, नेशनल प्रोग्राम ऑन टेक्नोलॉजी एन्हांस्ड लर्निंग (एनपीटीईएल), आईआईटी मद्रास, आईआईएम बेंगलुरु और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्निकल टीचर्स ट्रेनिंग रिसर्च (एनआईटीटीटीआर) चेन्नई के साथ समझौता किया है। बृहस्पतिवार को एआईसीटीई मुख्यालय में सभी हितधारकों ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस दौरान एआईसीटीई के अध्यक्ष टीजी सीताराम, सदस्य सचिव प्रो. राजीव कुमार, एडवाइजर डॉ. ममता रानी अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

एआईसीटीई के अध्यक्ष टीजी सीताराम ने कहा कि इस पहल से इंजीनियरिंग की छात्राओं को अपने करियर में काफी लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि एआईसीटीई अप्रूव्ड कॉलेजों में छात्राओं की संख्या काफी अच्छी है। इनमें एडमिशन लेने वालों में 35 से 40 प्रतिशत छात्राएँ हैं। एआईसीटीई की यह पहल नेशनल एजुकेशन पॉलिसी की भावना के भी अनुरूप है। पहले छात्रों के सामने स्पेशलाइजेशन के सीमित विकल्प होते थे लेकिन आज उनके पास स्पेशलाइजेशन और उस क्षेत्र में रोजगार के असीमित विकल्प खुल गये हैं। इसीलिए अब शिक्षकों की भूमिका में भी बड़े बदलाव हुए हैं। इसलिए एनपीटीईएल और एनआईटीटीटीआर के साथ मिलकर शिक्षकों के लिए भी विशेष ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाए जाएंगे ताकि वे इंजीनीयरिंग के छात्रों को भविष्य की जरूरतों और चुनौतियों के अनुसार शिक्षा दे सकें। जॉब के लिए एआईसीटीई ने गूगल, मेटा और आईबीएम समेत सैकड़ों बड़ी कंपनियों के साथ समझौता किया है। परिषद ने इंटर्नशिप पोर्टल, ग्रामीण एवं आदिवासी इलाकों के छात्रों के लिए प्लेसमेंट पोर्टल के साथ ही कामकाजी पेशेवरों के कौशल विकास के लिए विभिन्न कोर्स भी शुरू किए हैं। आज हुये इन समझौतों के माध्यम से भी हमारे छात्रों के लिए रोजगार के नए द्वार खुल गए हैं।

एआईसीटीई के सदस्य सचिव प्रो. राजीव कुमार ने कहा कि दिव्यांगों, लड़कियों और कोरोना के कारण अनाथ हुये बच्चों को लेकर परिषद काफी संवेदनशील है। ऐसे छात्रों के लिए रोजगोरोन्मुखी पाठ्यक्रम चलाये जा रहे हैं। परिषद की इस पहल का भी छात्रों को काफी लाभ मिलेगा। इस दौरान एनआईटीटीटीआर की डायरेक्टर डॉ. उषा नातेसन, आईआईटी मद्रास के डीन प्रो. प्रताप हरिदोस, आईआईएम बेंगलुरु के चीफ एड्मिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर कर्नल एसडी अरवेंदन, अमेजन से सुमन यादव, यूथ फॉर जॉब्स फ़ाउंडेशन से मीरा शेरोय ने भी अपनी कार्ययोजना प्रस्तुत की।

समझौते से यह होगा फायदा
अमेज़न के वुमेन ऑफ द वर्ल्ड कार्यक्रम के तहत देशभर के इंजीनियरिंग कॉलेजों की छात्राओं को 37 घंटे का विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा जिसमें डेटा रिसर्च एंड एल्गोरिदम्स, लाइव कोडिंग एडवांस्ड, वर्कशॉप ऑन लीडरशिप स्किल्स, एडबल्यूएस क्लाउड कम्प्यूटिंग आदि पर फोकस किया जाएगा। इसे सफलतापूर्वक पूरा करने वाली छात्राओं को कोर्स पूरा होने के बाद कंपनी में इंटर्नशिप और नौकरी में प्राथमिकता मिलेगी। वहीं, एनपीटीईएल और एनआईटीटीटीआर द्वारा चलाये जाने वाले पाठ्यक्रमों के जरिये शिक्षकों को भविष्य की चुनौतियों के अनुसार तैयार किया जाएगा। यूथ फॉर जॉब्स के जरिये देश भर के दिव्यांग छात्र छात्राओं को ग्रासरूट अकेडमी, दिव्यांग शक्ति, कॉलेज कनैक्ट आदि प्रोग्राम के जरिये जॉब के लिए तैयार किया जाएगा और उन्हें जॉब दिलाई जाएगी।

  • bureau jabalpurpatrika

    Related Posts

    चौथा राष्ट्रीय अटल अवार्ड: विभिन्न क्षेत्रों में अनुकरणीय योगदान के लिए उत्कृष्टता को किया गया सम्मानित

    भाजपा के वरिष्ठ नेता और हिमाचल प्रदेश के प्रभारी, अभिनाश राय खन्ना बतौर मुख्यातिथि उपस्थित हुए। 37 लोगों को दिया गया यह सम्मान नई दिल्ली, 21 जून, 2024: दिल्ली में…

    Read more

    तेलंगाना के 11 से 16 वर्ष के चार युवा एडवेंचरर्स ने हासिल की नई ऊंचाईयां

    विनर्स एंड अचीवर्स ने आयोजित किया इन युवाओं के लिए एडवेंचरर्स कैंप नई दिल्ली, – 19 June, 2024: प्रसिद्ध पर्वतारोही सत्यरूप सिद्धांत की एडवेंचर कंपनी विनर्स एंड अचीवर्स और रांची…

    Read more

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    धर्म

    अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

    अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कराने वाले पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित का 86 साल की उम्र में देहांत

    रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में होंगे शामिल

    रामचरितमानस और पंचतंत्र को UNESCO की तरफ से मिली मान्यता,’मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड’ एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर में  होंगे शामिल

    बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

    बीकानेर हाउस में आयोजित नौ दिवसीय ‘राजस्थान उत्सव-2024 में राजस्थानी हस्तशिल्प मेले का हुआ समापन

    सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

    सड़क पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पीटने वाला पुलिसकर्मी निलंबित: लोगों ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

    बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

    बैद्यनाथ धाम के पंचशूल में छिपी हैं कुछ अनसुनी कहानियां जानिए वहां क्या है खास ?

    महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात

    महाशिवरात्रि पर बैद्यनाथ धाम में भक्तों की भरमार, हर-हर महादेव की जय जयकार! ; देर शाम को निकलेगी शिव बारात